Home राज्य हापुड़ वर्दी पर शहीद की नेम प्लेट लगाकर करता था ठगी

वर्दी पर शहीद की नेम प्लेट लगाकर करता था ठगी

13
0

हापुड़:

 

पुलिस ने शुक्रवार को ऐसे अपराधी को बंदी बनाया जो देश के लिए प्राण न्योछावर करने वाले शहीदों की वर्दी और नाम का दुरुपयोग कर अन्य शहीदों के परिजन से ठगी करता था। कई राज्यों की पुलिस लगातार इस घृणित अपराध करने वाले बदमाश की तलाश में थी।

 

पुलिस क्षेत्राधिकारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि पकड़ा गया बदमाश शातिर किस्म का अपराधी है। ठगी को अंजाम देने के लिए बदमाश इंटरनेट के माध्यम से देश की रक्षा करते हुए शहीद होने वालों जवानों के बारे में जानकारी एकत्र करता था। बदमाश शहीद के परिवार से लेकर उसकी तैनाती के स्थानों और अवधि की जानकारी एकत्र करता था, ताकि ठगी करने के प्रयास के दौरान उस पर कोई शक न कर सकें। मेरठ रोड राजीव एन्क्लेव निवासी नक्सली हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान शोभित शर्मा की माता से उसने सात लाख की ठगी की थी।

 

पकड़ा गया बदमाश उत्तर प्रदेश के अलावा पंजाब, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और गुजरात समेत अन्य राज्यों में भी शहीदों के परिवार से वह लाखों की ठगी कर चुका है। मथुरा के शहीद लांस नायक हेमराज की पत्नी से उसने 10 लाख रुपये ठगे थे। इस अपराध में वह छह वर्ष कैद की सजा काट चुका है। इसके बाद भी उसने ठगी की अन्य कई घटनाओं को अंजाम दिया।

 

———————— -वर्दी की पर लगी नेम प्लेट ने खोली पोल

 

शहीद शोभित की माता से ठगी करते समय बदमाश सीआरपीएफ की वर्दी पहनकर आया था। वर्दी पर उसने एमएल मीणा के नाम की नेम प्लेट लगा रखी थी। पुलिस क्षेत्राधिकारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि पकड़े गए बदमाश ने पुलवामा हमले में शहीद सीआरपीएफ के जवान मध्यप्रदेश के सीहोर जिले निवासी ओम प्रकाश की पत्नी कोमल से आठ लाख रुपये ठग लिए थे। इस घटना में भी बदमाश ने सीआरपीएफ की वर्दी पहनी थी जिस पर एमएल मीणा की नेम प्लेट लगी हुई थी। –ठगी में लेता था फर्जी दस्तावेजों का सहारा

 

ठगी की घटना को अंजाम देने से पूर्व पकड़ा गया बदमाश पूरा होमवर्क कर लेता था। सरकार द्वारा आर्थिक मदद दिलाए जाने के संबंध में वह शहीद के परिजन के नाम से एक फर्जी दस्तावेज तैयार करता था, ताकि ठगी के दौरान उस पर किसी को शक न हो। वह शहीद के परिजन को फर्जी दस्तावेज दिखाकर मोटी रकम दिलाने का झांसा देता था। इसके बाद वह आसानी से ठगी कर फरार हो जाता था। उससे शहीदों के नाम से बनाए गए 20 से अधिक फर्जी दस्तावेज बरामद हुए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here