सायमा हत्याकांड’हंगामे के बीच ग्राम प्रधान की सेहत बिगड़ी तो पुलिस के हाथ-पांव भी फूल गए

सायमा हत्याकांड की जांच को लेकर उसके पति व देवर से बंद कमरे में पूछताछ करना डिडौली पुलिस को भारी पड़ा। गुस्साए ग्रामीणों ने इसको लेकर कड़ा विरोध जताया। हंगामे के बीच ग्राम प्रधान की सेहत बिगड़ी तो पुलिस के हाथ-पांव भी फूल गए। ग्रामीणों के मौजूदा रुख के बीच तेज हुई पुलिस जांच भी सुस्त होती नजर आ रही है।

डिडौली कोतवाली पुलिस गुरुवार को हुए सायमा हत्याकांड के बाद से तनाव में है। सायमा की हत्या व उसके दो मासूम बच्चों की मौत का क्लू खोजने के लिए हर संभव प्रयास पुलिस कर रही है लेकिन कोई किनारा नहीं मिल पा रहा है। शनिवार को भी पुलिस ने गांव पहुंचकर सायमा के पति आसिफ व देवर अरकान को अलग कमरे में ले जाकर पूछताछ करनी चाही। बताया जाता है कि इसके बाद पुलिस ने दोनों को कार में बैठाकर साथ ले जाने की कोशिश की। इस पर ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया और उन्होंने विरोध जताया। हंगामे के बीच ग्राम प्रधान अरकान की हालत भी बिगड़ गई, निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। गुस्साए ग्रामीणों ने सड़क पर उतरकर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी व प्रदर्शन किया। बताया जाता है कि ग्रामीणों ने पुलिसकर्मियों को मौके से दौड़ा लिया। हालांकि पुलिस अधिकारी इससे इन्कार कर रहे हैं। फिलहाल मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति के बीच ग्रामीणों का उग्र रुख देखते हुए पुलिस ने भी कदम पीछे खींचना ही बेहतर समझा है। सीधे कार्रवाई करने से पुलिस बचती नजर आ रही है। गांव के साथ ही संदिग्धों पर गोपनीय रूप से निगाह रखी जा रही है।

यह बताई जा रही वजह

अमरोहा। डिडौली कोतवाली के सैंतली गांव में सायमा की गला दबाकर हत्या और उसके मासूम बेटी, बेटे की दम घुटने से हुई मौत के बाद से पुलिस पर वारदात के सटीक खुलासे का दबाव बढ़ा है। वारदात को अंजाम किसने और क्यों दिया, पुलिस इसका सुराग तलाशने के लिए सभी पहलुओं पर काम कर रही है। बताया जाता है कि पुलिस को तीनों की मौत के तार घर में छिपे होने की आशंका है। हत्या के क्लू ढूंढ़ने के लिए ही पुलिस शनिवार को सैंतली गई थी। पुलिस ने आसिफ व उसके भाई को उठाने की कोशिश की, जिस पर ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया।

JPN7 NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *