Home राज्य अमरोहा अमरोहा – राश्ट्रीय लोक अदालत 14 सितंबर को

अमरोहा – राश्ट्रीय लोक अदालत 14 सितंबर को

19
0

 

 

( राष्ट्रीय लोक अदालत के परिप्रेक्ष्य में   को  मोटर दुर्घटना प्रतिकर याचिका, वादों/ मामलों के अधिक से अधिक संख्या में निस्तारण किये जाने हेतू जनपद न्यायालय के सभी मोटर दुर्घटना ट्रिव्नूल न्यायालय के न्यायिक अधिकारीगण, सभी इन्ष्योरेन्ष कम्पनियों के अधिकारियों  व इन्ष्योरेन्ष कम्पनियों के सम्बन्धित अधिवक्तागणों की एक बैठक आहुत की गयी। )   

उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ व नालसा नई दिल्ली एंव माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद उत्तर प्रदेश के दिषा – निर्देषों के  अनुपालन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अमरोहा के तत्वाधान में  जनपद न्यायालय एंव समस्त वाहय न्यायालयों पर आयोजित होने वाली राश्ट्रीय लोक अदालत के परिप्रेक्ष्य में मोटर दुर्घटना प्रतिकर याचिका वादों/ मामलों को अधिक से अधिक संख्या में निस्तारण किये जाने हेतू डा0  अषोक कुमार सिंह  ,माननीय जनपद न्यायाधीष महोदय के निर्देषानुसार श्रीमान प्रथम अपर जनपद न्यायाधीष राकेष कुमार की अध्यक्षता में कार्यालय सचिव डी.एल.एस.ए. अमरोहा के विश्राम कक्ष में प्री -ट्रायल बैठक का आयोजन किया गया है। 

आहूत बैठक में श्री उमेष कुमार, अपर जनपद न्यायाधीष /एफ.टी.सी.प्रथम, श्री अवधेश कुमार सिंह,, अपर जनपद न्यायाधीष /एफ.टी.सी. द्वितीय अमरोहा, सुश्री आकांक्षा गर्ग, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अमरोहा, बीमा कम्पनी  के अधिकारीगण व बीमा कम्पनियों के सम्बन्धित अधिवक्तागण श्रीमती रेषू गौतम (प्रा0 अधिकारी) नेषनल इन्ष्योरेन्ष क0 मुरादाबाद,  ए.के. सक्सैना एड0, श्री वी.एन. षर्मा एड0, श्री सर्वेष षर्मा एड0, श्री एस.सी. अग्रवाल एड0, श्री राजीव सिंह एड0, श्री अनीस अहमद एड0, श्री फूरकान अहमद एड0  सर्वेष कुमार एड0 षकील अहमद एड0 उपस्थित रहें।

 प्रथम अपर जनपद न्यायाघीष द्वारा जनपद न्यायालय के सभी अपर जनपद न्यायाधीषों से अपेक्षित है कि वह अपने न्यायालयों में मोटर एक्सीडेन्ट क्लेम से संबन्धित वादों /मामलों के अधिकाधिक निस्तारण हेतू राश्ट्रीय लोक अदालत में नियत करें तथा पक्षकारों को नाटिस जारी करें तथा यह भी कहा कि तामीला हेतू जारी किये जाने वाले नोटिसों पर लाल सियाई से राश्ट्रीय लोक अदालत व दिनंाक की स्टाम्प लगायी जायेे।

  प्रथम अपर जनपद न्यायाघीष अमरोहा द्वारा आहूत बैठक में उपस्थित बीमा कम्पनी के अधिकारीगणों एंव बीमा कम्पनी के सम्बन्धित अधिवक्ताओ को निर्देषित किया गया कि वह अपनी – अपनी बीमा कम्पनियों के जो वाद न्यायालयों में लम्बित है जो राश्ट्रीय लोक अदालत में निस्तारित हो सकते हेै को अधिकाधिक संख्या में नियत कर निस्तारित कराये।  

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here